रविवार की छुट्टी का इतिहास – History of Sunday in Hindi

क्या आप जानते हैं संडे की छुट्टी हमें कैसे मिली? History of Sunday Hindi 

.

.

.

बहुत कम लोगों को संडे की छुट्टी का इतिहास मालूम होगा

खैर कोई बात नहीं………हम आपको बताते है की रविवार ही क्यों छुट्टी के लिए चुना गया है।

संडे की छुट्टी के पीछे कई कई कारण है

History of Sunday Hindi

इसके पीछे कई धार्मिक मान्यताओं के साथ-साथ ऐतिहासिक कारण भी है

कहा जाता है कि संडे की छुट्टी की शुरुआत भारत से हुई

ऐतिहासिक कारण

संडे की छुट्टी का सर्वप्रथम जनक नारायण मेघाजी लोखंडे को माना जाता है

भारत पर जब अंग्रेजी हुकूमत का शासन था तब सबसे दयनीय हालत मजदूरों  की थी मजदूरों को सातों दिन काम करना पड़ता था उनको आधे दिन का अवकाश भी नहीं दिया जाता था 1857 में नारायण मेघाजी लोखंडे मजदूरों के नेता ने ब्रिटिश शासन के के सामने संडे की छुट्टी का प्रस्ताव रखा

इस प्रस्ताव में उन्होंने 5 मांगे रखी

रविवार के दिन साप्ताहिक अवकाश हो

भोजन के लिए छुट्टी दी जाए

काम के लिए घंटे निश्चित हो

किसी मजदूर कि काम करते समय दुर्घटना होने पर उसे वेतन के साथ अवकाश दिया जाए

और किसी भी मजदूर की काम करते समय मृत्यु होने पर उसके परिवार को पेंशन दी जाए

लेकिन अंग्रेजी हुकूमत ने इस प्रस्ताव को मानने से इनकार कर दिया उसके बाद नारायण मेघाजी लोखंडे ने आंदोलन शुरु किया और यह आंदोलन 8 वर्ष तक चला इस आंदोलन की बदौलत 1889 में संडे की छुट्टी का प्रस्ताव अंग्रेजी हुकूमत द्वारा मान लिया गया


नारायण मेघाजी लोखंडे का मानना था कि मजदूरों को  जो नौकरियां मिली है वह समाज की वजह से मिली है हर व्यक्ति को जो नौकरी करता है उसे 1 दिन का समय समाज की सेवा के कार्यों में लगाना चाहिए

नारायण मेघाजी लोखंडे के सम्मान में भारत सरकार द्वारा 2005 में उनके नाम से डाक टिकट भी जारी किया गया

धार्मिक मान्यताएं

  1. हिंदू धर्म के अनुसार रविवार का दिन सूर्य देव का दिन माना जाता है सूर्य देव को सभी ग्रहों का स्वामी माना जाता है इस दिन पूजा करने से सारे कष्टों का निवारण होता है
  1. इसाई धर्म के अनुसार  रविवार के दिन काम करना अशुभ माना जाता है उनकी मान्यता है कि भगवान ने 6 दिन सृष्टि के  सर्जन के लिए काम किया और सातवें दिन यानी रविवार को उन्होंने आराम किया ईसाई धर्म के अनुसार इस दिन को वीकेंड भी कहा जाता है

रविवार का अवकाश निश्चित कर दिया गया अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संस्था (International organization for Standardization ISO) ने भी माना कि रविवार का दिन छुट्टी के लिए आवश्यक है इस संस्था ने 1986 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रविवार के अवकाश को लागू किया गया

दोस्तों !  रविवार के अवकाश के बारे में इतिहास आपको कैसा लगा आप अपने सुझाव या विचार हमें कमेंट बॉक्स के द्वारा दे सकते हैं

धन्यवाद



 

Success Story in Hindi खेतो मे मजदूरी से आईटी कंपनी तक की यात्रा

School Dropout who built Quick Heal एक प्रेरणादायक कहानी

Mata Pita ki Seva – Inspirational Story in Hindi

कोई भी काम छोटा नही होता है Inspirational Stories in hindi

प्रत्येक 41 साल बाद साक्षात हनुमान जी यहा आते है दर्शन देने- hanuman ji ki leela

Leave a Comment

कृपया प्रतीक्षा करे

Latest अपडेट प्राप्त करे

Hindiasha की नयी पोस्ट की अपडेट के लिए सब्सक्राइब करे
%d bloggers like this: