एक सोच से अपनी पहचान सबसे अलग कैसे बनाये How to Think Different

दोस्तों hindiasha पर एक बार फिर से मोटिवेशनल लेख How to Think Different “एक सोच से अपनी पहचान सबसे अलग कैसे बनाये” के साथ आपका स्वागत है

हम ज़िन्दगी में जब भी कुछ बड़ा हासिल करने की या कुछ बड़ा बनने की सोचते है तो हमे तलाश होती है उस रास्ते की जो हमे अपनी मंजिल तक ले जा सके और इस तलाश में अक्सर हम एक ऐसा रास्ता चुन लेते है जिसपे बाकि दुनिया चलती है एक ऐसा रास्ता जिसपर भीड़ चलती है जिस पर ज्यादातर लोग चलते है

हम देखते है कि हमारे आस-पास बाकि लोग क्या सोचते है हम देखते है कि हमारे आस-पास बाकि लोग क्या करते है और फिर हम भी वही सोचने और करने लग जाते है लेकिन क्या आप जानते है कि दुनिया के सिर्फ 1 प्रतिशत लोग ही सबसे ज्यादा कामयाब है सिर्फ 1 प्रतिशत लोगो के पास ही सबसे ज्यादा पैसा और सबसे ज्यादा रसूख है

तो कामयाब होने के लिए आपको वो नहीं करना जो दुनिया के 99 प्रतिशत लोग करते है बल्कि वो करना है जो 1 प्रतिशत सबसे ज्यादा कामयाब लोग करते है

जानना चाहेंगे क्या है वो ??

ये 1 प्रतिशत लोग वो सोचते है जो पहले किसी ने नहीं सोचा, ये 1 प्रतिशत लोग वो करते है जो पहले किसी ने नहीं किया, ये १प्रतिशत लोग वो बनाते है जो पहले किसी ने नहीं बनाया जबकि बाकि 99 प्रतिशत लोग वही सोचते है जो बाकि लोग सोचते है, ये वही करते है जो बाकि सब करते है

और ऐसे लोगो को ना तो दुनिया में कोई याद रखता है और ना ही इनके बारे में कोई बात करता है इन लोगो के बारे में ना तो कोई लिखता है और ना ही कोई पढता है

How to Think Different

वो रास्ता जो जाना-पहचाना है वो रास्ता जो आसान है,जिसपे सारी दुनिया चलती है अगर आप भी उस रास्ते पर चलेंगे तो कुछ देर के लिए ज़िन्दगी आसान लग सकती है क्योकि इस रस्ते पर ज्यादा मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ता, इस रास्ते पर बहुत खतरे नहीं उठाने पड़ते इस रास्ते पर आपके साथ बहुत सारे लोग होते है,आराम होता है ,सहूलियत होती है

लेकिन ये भी तय है कि अगर आप भी इस रास्ते पर चले तो आपको भी वही मिलेगा जो बाकि सब को मिला है कामयाबी मिलेगी पर आधी-अधूरी, सपने पुरे होंगे पर आधे-अधूरे

इस आधी-अधूरी कामयाबी और सपनो के सहारे ज़िन्दगी काटी तो जा सकती है पर ज़िन्दगी को पूरी तरह जिया नहीं जा सकता है क्योकि इन रास्तो पर चलकर हर सवाल का जवाब नहीं मिलता, इन रास्तो पर चलके ये कभी पता नहीं चलता कि ज़िन्दगी में और क्या था जो हम कर सकते थे ज़िन्दगी में और क्या था जो हम पा सकते थे

आप जानना चाहते है कि आपके लिए क्या सही रहेगा क्या बनाना या क्या करना सही रहेगा और बजाय खुद से पूछने के आपये सवाल लोगो से पुछते है दुनिया से पुछते है जहा हर इंसान के पास अपना एक अलग जवाब है क्योकि हर इंसान कि सोच अलग है, हालात अलग है, सपने अलग है

ये अब आपको तय करना होगा कि आप वही होना चाहते है या सही होना, आप वो करेंगे जो सब करते है या वो जो आप करना चाहते है आप लोगो की सुनेगे या अपने दिल की ये आपको तय करना है क्योकि दोनों एक साथ होना मुमकिन नहीं है

अगर आप वो पाना चाहते है जो आपका दिल कहता है तो भीड़ से हटकर कुछ अलग सोचिये कुछ अलग करिये बाकि लोगो कि तरह लाइन में खड़े होकर उन चीजो का इंतज़ार मत करिए जो आप पाना नहीं चाहते क्योकि अगर ये चीजे आपको मिल भी गयी तो भी भीड़ से अलग आपकी कोई पहचान नहीं होगी

ये चीजे मिल भी गयी तो ज़िन्दगी को कोई मतलब , कोई मकसद नहीं होगा याद रखिये जो ऊपर बैठा है जिसने हम सबको यहा इस दुनिया में भेजा है जिसने हमारे लिए कोई सीमा, कोई सरहद तय नहीं की है उसने हमारे और हमारे सपनो के बीच में कोई लकीर नहीं खींची है

हर इंसान उतना कामयाब हो सकता है जितना वो होना चाहता है तय आपको करना है कि आप गली के मोड़ तक जाना चाहते है या चाँद तक, तय आपको करना है कि आप ज़िन्दगी में कुछ बड़ा करना चाहते है या कुछ छोटा करके ही काम चलाना चाहते है

तो सोच समझकर तय कीजिये क्योकि आप जो भी तय करेंगे क्योकि ज़िन्दगी में उस से ज्यादा नहीं मिलेगा

अलग सोचने और अलग करने के साथ एक परेशानी ये है कि लोग आपका साथ नहीं देते क्योकि आपकी सोच उनकी सोच के साथ मेल नहीं खाती सारी दुनिया एक तरफ कड़ी हो जाती है और आप अकेले एक तरफ

लेकिन ये ध्यान रखियेगा कि दुनिया में कामयाब वही लोग हुए है… इतिहास उन्ही लोगो ने रचा है जिनकी सोच बाकि दुनिया से अलग थी जिन्होंने ज़िन्दगी में वो मौका ढूंढा जिसके बगल से लाखो-करोडो लोग आँख बंद करके निकल गए उन्होंने उस जवाब पर यकीन किया जो बाकि पूरी दुनिया के लिए गलत था

लोगो और उनकी सोच के साथ चलने का मतलब है उस मौके को खो देना जो आपको कामयाबी की बुलंदियों तक पंहुचा सकता है वो मौका जो आपकी और साथ में लाखो-करोडो लोगो कि ज़िन्दगी बदल सकता है

आप क्या पाना चाहते है और आप क्या पा सकते है इन दोनों में बहुत फर्क होता है भीड़ के साथ सहूलियत भरी ज़िन्दगी जीने का मतलब है वो पाना जो आप चाहते है जबकि अपने साथ अपनी अलग सोच के साथ जीने का मतलब है वो पाना जो आप पा सकते है या उतना सफल होना जितना सफल आप हो सकते है

ज़िन्दगी का मकसद किसी और कि तरह बनना नहीं बल्कि अपनी एक अलग पहचान, अपना एक अलग मुकाम बनाना है ताकि हम एक बेहतर दुनिया बना सके

Bear Grylls Biography in Hindi | Man vs Wild | Life Story हिंदी में

अपने लिए, अपने सपनो के लिए, हर एक चीज के लिए जिसे करना मुमकीन है कुछ अलग सोचिये, कुछ अलग करिए जो मिल चुका है उसे छोड़ दीजिये उसकी तलाश कीजिये जिसे अब तक किसी ने नहीं ढूंढा है

मत सुनिए ….. जो कहा जा चुका है लिखिए वो ..जो अब तक किसी ने नहीं कहाँ

मत चलिए जाने-पहचाने रास्तो पर, बनाईये अपना खुद का एक रास्ता, हो सकता है लोग आज आपको गलत समझे..हो सकता है लोग आज आपको पागल कहे लेकिन दुनिया कि हर कीमती चीज की तरह एक दिन लोग आपकी भी कीमत समझेंगे

अगर आप अपने सपनो के लिए वो कीमत चुकाने के लिए तैयार है जो बाकि लोग चुकाना नहीं चाहते क्योकि आपने अपना जो रास्ता चुना है वही आपको बाहर लेके जायेगा हर हद, हर सरहद , हर सीमा से परे, हर उस बेहतरीन चीज कि तरफ जो इस दुनिया में मिल सकती है

क्योकि आपने वो नहीं देखा जो था, बल्कि आपने वो देखा था जो हो सकता था और आपने वो बनाके दिखाया..आपने वो करके दिखाया

ये दुनिया उन्ही को सलाम करती है जो अपनी अलग सोच के साथ ये साबित करके दिखाते है कि दुनिया गलत थी और वो सही थे

दोस्तों उम्मीद करता हु आपको ये पोस्ट How to Think Different “एक सोच से अपनी पहचान सबसे अलग कैसे बनाये” जरुर पसंद आई होगी अगर आपकी कोई राय या विचार है तो हमरे साथ जरुर शेयर करे

 

यह भी पढ़िए – 

बुरा वक़्त हमेशा नहीं रहता || Secret Behind Hard Times || बुरा समय कैसे दूर करें

Jeff Bezos Biography in Hindi | Amazon Success Story | जेफ बेज़ोस : विश्व के सबसे धनी आदमी की कहानी

 

1 Comment

Leave a Comment

कृपया प्रतीक्षा करे

Latest अपडेट प्राप्त करे

Hindiasha की नयी पोस्ट की अपडेट के लिए सब्सक्राइब करे
%d bloggers like this: