The Untold Success Story Virat Kohli || विराट कोहली की जीवनी

दोस्तो मुझे नहीं लगता विराट कोहली का नाम इस क्रिकेट जगत मे किसी परिचय का मोहताज़ है जिस तरह उन्होने क्रिकेट मे तेज़ गति से रन बनाए है उतनी ही तेज़ गति से उन्होने लोकप्रियता भी हासिल की है। क्रिकेट विशेषज्ञ तो उन्हे भविष्य का सचिन तेंदुलकर मानते है क्योकि वो तेंदुलकर की भाति बहुत ही सूझ-बुझ से बल्लेबाजी करते है।

हाल ही मे महेंद्र सिंह धोनी के सभी फोरमेट्स से कप्तानी छोड़ने के बाद विराट सभी फॉर्मेट के कप्तान बन गए है। दोस्तो आज हम इस प्रतिभाशाली खिलाड़ी की सफलता के बारे मे जानेंगे और इनसे कुछ चीजे सीखने की कोशिश करेंगे ।


untold success story virat kohli

विराट कोहली का जन्म 5 नवंबर 1988 को दिल्ली मे एक पंजाबी परिवार मे हुआ था । उनके पिता प्रेम कोहली पेशे से एक वकील और माँ सरोज एक गृहणी है। वो अपने परिवार मे सबसे छोटे है, उनका एक बड़ा भाई और एक बड़ी बहन भी है।

विराट की माँ कहती है कि जब वो 3 साल के थे तभी उन्होने बैट पकड़ लिया था और अपने पापा को अपने साथ खेलने के लिए हमेशा परेशान किया करते थे।

कोहली दिल्ली कि उत्तम नगर की गलियो मे बड़े हुये और विशाल भारतीय पब्लिक स्कूल से शिक्षा ग्रहण की।

उनके क्रिकेट के प्रति रुचि देखकर उनके पड़ोसियो का कहना था कि विराट को गली क्रिकेट मे समय व्यर्थ नहीं करना चाहिए बल्कि उसे किसी अकैडमी मे प्रोफेसनल तौर पर क्रिकेट सीखनी चाहिए ‘

कोहली के पिता पड़ोसियो के कहने पर 9 वर्ष की आयु मे उन्हे दिल्ली क्रिकेट अकैडमी जॉइन करवा दी

दोस्तो भारत मे क्रिकेट को कोई एज़ ए केरियर देखता है तो यह केरियर ऑप्शन सबसे रिस्की माना जाता है क्योकि भारत मे हर 10 मे से 8 लोग क्रिकेट देखने या खेलने के शौकीन होते है। लेकिन अगर विराट के पिता या पड़ोसियो की तरह सपोर्ट करने वाला मिल जाए ना तो सबकुछ आसान हो जाता है।

विराट को राजकुमार शर्मा ने ट्रेनिंग दी।

खेलो के साथ ही साथ कोहली पढ़ाई मे भी अच्छे थे उनके शिक्षक उन्हे एक होनहार और बुद्धिमान बच्चा बताते है। विराट ने क्रिकेट मे शुरुआत अक्टूम्बर 2002 मे की थी जब उनको पहली बार दिल्ली की अंडर-16 मे शामिल किया गया था।

उस समय विराट ने दिल्ली की पोली उमरीगर ट्रॉफी मे पहली बार प्रोफेस्नली क्रिकेट खेला था। वर्ष 2005 के अंत तक उन्हे अंडर-17 क्रिकेट का सदस्य बना दिया गया तब उन्हे विजय मेर्चेंट ट्रॉफी के लिए खेलना था इस 4 मेचो की सीरीज़ मे उन्होने 450 से ज्यादा रन बनाए थे।

untold success story virat kohli


सब कुछ सही चल रहा था लेकिन अचानक 18 दिसम्बर 2006 मे ब्रेन स्टॉक की वजह से कुछ दिन बीमार रहने के बाद उनके पिता की मृत्यु हो गयी। जिसका विराट के जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ा था। वो आज भी अपने इंटरव्यू मे अपनी सफलता के पीछे अपने पिता का हाथ बताते है।

कोहली का कहना है कि ये समय मेरे और मेरे परिवार के लिए बहुत मुश्किल था आज भी उस समय को याद करके मेरी आंखे नम हो जाती है।

बचपन से ही क्रिकेट प्रशिक्षण मे उनके पिता ने उनकी बहुत मदद की थी मेरे पिता ही मेरे लिए बहुत बड़ा सहारा थे पापा मेरे साथ रोज क्रिकेट खेला करते थे आज भी कभी-कभी मुझे उनकी कमी महसूस होती है।


जुलाई 2009 मे विराट को भारत की अंडर-19 मे चुन लिया गया और उनका पहला विदेशी टूर इंग्लैंड था। इस इंग्लैंड टूर मे उन्होने पहले 3 एकदिवसीय मेचो मे 105 रन बनाए थे।

मार्च 2008 मे विराट को भारत की अंडर-19 का कप्तान बना दिया गया उनको मलेशिया मे होने वाले अंडर-19 वर्ल्ड कप की कप्तानी करनी थी । इस वर्ल्ड कप मे उन्होने ने बहुत ही शानदार प्रदर्शन किया था।

कोहली को 2009 मे श्रीलंका दौरे के लिए इंडियन क्रिकेट टीम मे चुन लिया गया इस टूर की शुरुआत मे उन्हे इंडिया टीम-ए की तरफ से खेलने का मौका मिला था इसके बाद जब भारत के सलामी बलेबाज सचिन और सेहवाग दोनों घायल हो गए थे तब विराट को पहली बार उनकी जगह पर खेलने का मौका मिला था। इस टूर मे उन्होने अपना पहला एकदिवसीय अर्द्सतक मारा था और इस सिरीज़ मे भारत की जीत हुयी थी।


बस तभी से विराट ने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा और बहुत ही तेज़ गति से अपने खेल की बदोलत उन्होने क्रिकेट मे लोकप्रियता प्राप्त कर ली। और आज वो भारत के तीनों फॉर्मेट के कप्तान बन चुके है

विराट कहते है कि मै सामने वाले को नहीं देखता कि वह कितना बड़ा खिलाड़ी है मै बस इतना सोचता हूँ कि मेरे पीछे करोड़ो फँस का आशीर्वाद है


दोस्तो आपका बहुमूल्य समय देने के लिए बहुत–बहुत धन्यवाद

ऊमीद करता हूँ आपको यह लेख पसंद आया होगा इस लेख को शेयर करके आप हमारा मनोबल बढ़ा सकते है मै हर बार एक नयी प्रेरणादायक लेख के साथ आता हु दोस्तो अगर आप हमारे लेख को मिस नहीं करना चाहते तो आप अपनी ईमेल के साथ क्रप्या सबस्क्राइब कर ले

आपको यह लेख कैसा लगा कृपया हमे कमेंट के माध्यम से जरूर बताए… धन्यवाद

992 Comments

Leave a Comment

कृपया प्रतीक्षा करे

Latest अपडेट प्राप्त करे

Hindiasha की नयी पोस्ट की अपडेट के लिए सब्सक्राइब करे
%d bloggers like this: