जिंदगी में लक्ष्य क्यों जरूरी है ? Why Goal Is Important In Life Motivational

नमस्कार दोस्तों hindiasha की नयी पोस्ट Why Goal Is Important In Life Motivational “जिंदगी में लक्ष्य क्यों जरूरी है ?” पर एक बार फिर से आपका स्वागत है

यदि आपसे पूछा जाये कि क्या आपने अपने लिए कोई लक्ष्य निर्धारित कर रखे है तो आपके सिर्फ दो जवाब हो सकते है हां या ना  यदि आपका जवाब हां है तो ये बहुत ही अछी बात है क्योकि ज्यादातर लोग तो बिना किसी निश्चित लक्ष्य के ही अपनी ज़िन्दगी बिताये चले जा रहे है और आप उनसे कही बेहतर स्थिति में है

यदि आपका जवाब ना है तो ये थोड़ी चिंता का विषय है क्योकि अभी आपका भले ही कोई लक्ष्य नहीं हो लेकिन थोड़े समय बाद आप अपने लिए कोई लक्ष्य निर्धारित कर सकते है

 

लक्ष्य (Goal) क्या है ?

 

लक्ष्य एक ऐसा कार्य है जिसे हम पाने कि इच्छा रखते है उदहारण – एक विद्यार्थी का लक्ष्य हो सकता है  फाइनल एग्जाम में 80 प्रतिशत से अधिक मार्क्स लाना

एक कर्मचारी का लक्ष्य हो सकता है अपनी परफॉरमेंस के दम पर प्रमोशन पाना

एक गृहणी का लक्ष्य हो सकता है घर से ही व्यापार करना

एक समाजसेवी का लक्ष्य हो सकता है किसी गाव के सभी लोगो को साक्षर बनाना

Why Goal Is Important In Life Motivational

लक्ष्य का होना जरुरी क्यों है ?

जब आप सुबह घर से निकलते है तो आपको पता होता है कि आपको कहा जाना है और आप वहा पहुच जाते है सोचिये अगर आपको ये नहीं पता कि आपको कहा जाना है तो भला आप क्या करेंगे इधर-उधर भटकने में ही समय व्यर्थ हो जायेगा

इसी तरह इस जीवन में भी यदि आपने अपने लिए कोई लक्ष्य नहीं बनाया है तो आपकी ज़िन्दगी तो चलती रहेगी लेकिन जब आप पीछे मुड़कर देखेंगे तो शायद आपको पछतावा हो कि आपने कुछ खाश अचीव नहीं किया

लक्ष्य व्यक्ति को एक सही दिशा देता है लक्ष्य हमे बताता है कि हमारे लिए क्या सही है और क्या नहीं यदि Goals क्लियर हो तो हम उसके मुताबिक अपने आप को तैयार कर सकते है

अगर दिमाग में लक्ष्य साफ़ हो तो उसे पाने के रास्ते भी साफ़ नजर आने लगते है और इंसान उसी दिशा में अपने कदम बढ़ा देता है

भगवन ने इंसान को सिमित ऊर्जा और सिमित समय दिया है इसलिए जरुरी हो जाता है कि हम इसका उपयोग सही तरीके से करे

लक्ष्य हमे ठीक यही करने को प्रेरित करता है अगर आप अपने goal को ध्यान में रखकर कोई काम करते है तो उसमे आपका constration और Energy का लेवल कही अच्छा हो जाता है

उदाहरण- जब आप किसी लाइब्रेरी में बिना किसी खास किताब को पढने जाते है तो आप युही ही किताबो को उठाते है और उनके पन्ने पलटते है और कुछ पन्ने पढ़ डालते है

ज़िन्दगी में भी हमारे सामने अगर कोई लक्ष्य नहीं है तो जम युही अपनी एनर्जी waste करते रहेंगे और नतीजा कुछ ख़ास नहीं निकलेगा

लेकिन इसके विपरीत जब हम अपने लक्ष्य को ध्यान में रखेंगे तो हमारी एनर्जी सही जगह उपयोग होगी

जिससे पूछे वही आदमी ये कहता है कि मै एक सफल इंसान बनना चाहता हु पर अगर ये पूछने पर कि क्या हो जाने पर वो अपने आप को सफल व्यक्ति मानेगा तो इसका उत्तर कम ही लोग पुरे विश्वास के साथ दे पाएंगे

सबके लिए सफलता के मायने अलग-अलग होते है और ये मायने लक्ष्य द्वारा ही निर्धारित होते है तो यदि आपका कोई लक्ष्य नहीं है तो एकबार औरो कि नज़र में सफल हो सकते है पर खुद कि नज़र में कैसे decide करेंगे कि आप सफल है या नहीं

इसके लिए आपको आपके द्वारा ही तय किये गये लक्ष्य को देखना होगा हमारी ज़िन्दगी में कई अवसर आते-जाते रहते है कोई चाहकर भी सभी अवसर का फायदा नहीं उठा सकता हमे अवसरों को कभी हां तो कभी ना करना होता है ऐसे में ऐसी परिस्थितिया आना स्वभाविक है जब हम decide नहीं कर पाते कि हमे क्या करना चाहिए ऐसी परिस्थितियों में आपका लक्ष्य ही आपको गाइड कर सकता है

फुटबॉल की तरह आप भी अपनी ज़िंदगी में तब तक आगे नहीं बढ़ सकते जब तक की आपको अपने goal का पता ना हो

तो यदि आपने अभी तक कोई लक्ष्य निर्धारित नहीं किया है तो इस दिशा में सोचना शुरू कीजिये जीवन में एक बड़ा दृढ लक्ष्य बनाईये और उसे हासील करके ही दम लीजिये

hindiasha के सभी पाठको से उम्मीद करता हु कि आपको यह लेख जरुर पसंद आया होगा

आप हमारे फेसबुक पेज को लिखे करना ना भूले   धन्यवाद !

 

Leave a Comment

कृपया प्रतीक्षा करे

Latest अपडेट प्राप्त करे

Hindiasha की नयी पोस्ट की अपडेट के लिए सब्सक्राइब करे
%d bloggers like this: